31 जनवरी के बाद कश्मीर में मौसम में सुधार की संभावना

श्रीनगर। कश्मीर घाटी में शुक्रवार को शीतलहर और तेज हो गई। श्रीनगर में पारा शून्य से 7.7 डिग्री सेल्सियस नीचे रिकॉर्ड किया गया। जम्मू-कश्मीर में 31 जनवरी तक मौसम शुष्क रहने की संभावना है, जिसके बाद 3 फरवरी को बर्फबारी और बारिश की भविष्यवाणी की गई है।

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख मौसम विज्ञान विभाग (मेट) के निदेशक सोनम लोटस ने कहा, पश्चिमी विक्षोभ के चलते भारी बर्फबारी की संभावना नहीं है, इसलिए लोग 3 फरवरी के आसपास भारी बर्फबारी की अफवाहों पर ध्यान न दें।

‘चिल्लई कलां’ की 40 दिनों की लंबी कठोर सर्दियों की अवधि 31 जनवरी को समाप्त होगी।

पहलगाम में शून्य से 12.1 नीचे और गुलमर्ग में शून्य से 11.5 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान रिकॉर्ड किया गया। लेह शहर में शून्य से 13.4, कारगिल में शून्य से 19.4 और द्रास में शून्य से 19.6 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान दर्ज किया गया।

जम्मू शहर में न्यूनतम तापमान 6.4, कटरा में 5.4, बटोटे में 0.1, बनिहाल में माइनस 2.4 और भद्रवाह में माइनस 2.1 रहा। (आईएएनएस)

श्रीनगर। कश्मीर घाटी में शुक्रवार को शीतलहर और तेज हो गई। श्रीनगर में पारा शून्य से 7.7 डिग्री सेल्सियस नीचे रिकॉर्ड किया गया। जम्मू-कश्मीर में 31 जनवरी तक मौसम शुष्क रहने की संभावना है, जिसके बाद 3 फरवरी को बर्फबारी और बारिश की भविष्यवाणी की गई है।

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख मौसम विज्ञान विभाग (मेट) के निदेशक सोनम लोटस ने कहा, पश्चिमी विक्षोभ के चलते भारी बर्फबारी की संभावना नहीं है, इसलिए लोग 3 फरवरी के आसपास भारी बर्फबारी की अफवाहों पर ध्यान न दें।

‘चिल्लई कलां’ की 40 दिनों की लंबी कठोर सर्दियों की अवधि 31 जनवरी को समाप्त होगी।

पहलगाम में शून्य से 12.1 नीचे और गुलमर्ग में शून्य से 11.5 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान रिकॉर्ड किया गया। लेह शहर में शून्य से 13.4, कारगिल में शून्य से 19.4 और द्रास में शून्य से 19.6 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान दर्ज किया गया।

जम्मू शहर में न्यूनतम तापमान 6.4, कटरा में 5.4, बटोटे में 0.1, बनिहाल में माइनस 2.4 और भद्रवाह में माइनस 2.1 रहा। (आईएएनएस)

Leave a Comment